Home

अनुसूचित जनजाति वित्त एवं विकास निगम प्रकोष्ठ की योजनाएं

राष्ट्रीय अनुसूचित जनजाति वित्त एवं विकास निगम के आर्थिक विकासपरक विभिन्न स्वरोजगारमूलक कल्याणकारी योजनाएं

टीप:- रू. 25,000/- के व्यवसाय वाले ऋण पर जमानतदार की आवश्यकता नहीं है। यह व्यवस्था राज्य स्तर पर की गई हैं।

वर्तमान में संचालित योजनाएं :-

  1. ट्रेक्टर ट्राली इकाई लागत रू. 8,39,000/-
  2. गुड्स केरियर योजना इकाई लागत रू. 6,26,000/-
  3. पैसेंजर व्हीकल योजना इकाई लागत रू. 5,50,000/-
  4. स्मॉल बिजनेस योजना इकाई लागत रू. 1,00,000/- एवं 3,00,000/-
  5. आदिवासी महिला सशक्तिकरण योजना इकाई लागत रू. 1,00,000/-
  6. शिक्षा ऋण योजना - भारत में रू. 5,00,000/-
विशेष:-
  1. स्मॉल बिजनेस योजना के अंतर्गत आने वाले संभावित व्यवसाय- ब्यूटी पार्लर, नाई सेलून की दुकान, साइकिल रिपेयरिंग, कम्प्यूटर रिपेयरिंग, घरेलू विद्युत फिटिंग वायरिंग, होटल ढाबा, सिलाई दुकान, ऑटो पार्ट्स, जूता चप्पल दुकान, लॉण्ड्री, बेकरी की दुकान, कीताब की दुकान, ढाबा इकाई, इलेक्ट्रिक/ इलेक्ट्रॉनिक दुकान, इलेक्ट्रिक टाईप राईटर, कम्प्यूटर दुकान, फल एवं सब्जी दुकान, फास्टफुड रेस्टोरेंट, जनरल स्टोर, किराना दुकान, जूस एवं कोल्ड्रिंग सेंटर, मांस की दुकान, पान की दुकान, उर्वरक बीज दुकान, फोटोकापी सेंटर, रेडीमेड गारमेंट, कीताबों पर जिल्द, चुड़ी दुकान, मिठाई नमकीन दुकान, चाय की दुकान, टायर मरम्मत, बर्तन दुकान, साइकिल दुकान, विज्ञापन एजेंसी, एल्युमिनियम फेब्रीकेशन, ऑटो मोाबईल रिपेयर, जूट रस्सी बनाने का कार्य, बेटरी सर्विसिंग, विडियोग्राफी, ऑटो मोईलैक्ट्रिक वर्क शॉप, ऑडियो विडियो सर्विसिंग, दंत क्लीनिक, दवाई दुकान, स्टेशनरी दुकान, आटा चक्की, जूता बनाना, गैस वेल्डिंग, लेथ मशीन, फेब्रीकेशन यूनिट, तेल पिराई, प्लम्बर आदि आवश्यकताजनित व्यापार-व्यवसाय।
  2. आदिवासी महिला सशक्तिकरण योजना (महिलाओं के लिये)- फैंसी, मनीहारी, ब्यूटी पार्लर, फल, सब्जी आदि आवश्यकताजनित व्यापार-व्यवसाय।

क्षेत्रवार योजनाओं एवं व्यवसायों की सूची:- (अधिकतम ऋण रू. 10,00,000/- तक)
कृषि एवं सहायक क्षेत्र ट्रेक्टर ट्राली, खेती, वनोपज क्रय-विक्रय, सब्जी फल उत्पादन, बागवानी, बकरी पालन, मुर्गी पालन, मछली पालन, कृषि विकास, ट्यूबवेल खनन, वनोपज वनोषधि निर्माण, बर्गी कम्पोज खाद निर्माण विक्रय व्यवसाय, बैल/भैंसा जोड़ी-गाड़ी, मशरूम की खेती, बिजली टिलर, जेसमीन की खेती, पम्प सेट आदि क्षेत्रीय आवश्यकताजनित व्यवसाय।
सेवा एवं परिवहन क्षेत्र
अ- परिवहन क्षेत्र ऑटो पैसेंजर व्हीकल, ऑटो गुड्स कैरियर, ऑटो रिक्शा पेट्रोल-डीजल, कार टेक्सी, मारूति वेन, मिनी ट्रक, मिनी बस, मालवाहक आदि परिवहन संबंधी समस्त वाहन।
ब- सेवा एवं व्यवसाय क्षेत्र ब्यूटी पार्लर, नाई सेलून की दुकान, साइकिल रिपेयरिंग, कम्प्यूटर रिपेयरिंग, घरेलू विद्युत फिटिंग वायरिंग, होटल ढाबा, सिलाई दुकान, ऑटो पार्ट्स, जूता चप्पल दुकान, लॉण्ड्री, बेकरी की दुकान, कीताब की दुकान, ढाबा इकाई, इलेक्ट्रिक/ इलेक्ट्रॉनिक दुकान, इलेक्ट्रिक टाईप राईटर, कम्प्यूटर दुकान, फल एवं सब्जी दुकान, फास्टफुड रेस्टोरेंट, जनरल स्टोर, किराना दुकान, जूस एवं कोल्ड्रिंग सेंटर, मछली की दुकान, पान की दुकान, उर्वरक बीज दुकान, फोटोकापी सेंटर, रेडीमेड गारमेंट, कीताबों पर जिल्द, चुड़ी दुकान, मिठाई नमकीन दुकान, चाय की दुकान, टायर मरम्मत, बर्तन दुकान, साइकिल दुकान, विज्ञापन एजेंसी, एल्युमिनियम फेब्रीकेशन, ऑटो मोाबईल रिपेयर, जूट रस्सी बनाने का कार्य, बेटरी सर्विसिंग, विडियोग्राफी, ऑटो मोईलैक्ट्रिक वर्क शॉप, ऑडियो विडियो सर्विसिंग, दंत क्लीनिक, दवाई दुकान, स्टेशनरी दुकान, आटा चक्की, जूता बनाना, गैस वेल्डिंग, लेथ मशीन, फेब्रीकेशन यूनिट, तेल पिराई, प्लम्बर आदि आवश्यकताजनित व्यापार-व्यवसाय।
औद्योगिक क्षेत्र मसाला अद्योग, टाटपटटी दरी बुनाई व्यवसाय, मोमबत्ती निर्माण, काष्ठकला फर्नीचर व्यवसाय, स्टील फेब्रीकेशन फोर व्हीलर रिपेयरिंग व्यवसायय, पेटी निर्माण, पोहा मिल, हालर मिल, मिनी हालर मिल आदि आवश्यकताजनित उद्योग।
शिक्षा ऋण योजना रू. 5.00 लाख प्रति परिवार हेतु व्यावसायिक/तकनीकी कोर्साें (पी.एच.डी. सहित) के शिक्षा हेतु ऐसे विद्यार्थी जिन्होंने ए.आई.सी.टी.ई. मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया इत्यादि जैसे भी लागू हो से मान्यता प्राप्त संस्थान में प्रवेश पात्रता परीक्षा में से काउंसलिंग द्वारा चयनित कर प्राप्त कर लिये हो।

ऋण का विभाजन:-

  1. रू 1.00 लाख तक की येाजना - हितग्राही अंश 0%, राज्य निगम अंश 10%, राष्ट्रीय निगम अंश 90% तक
  2. रू 1.00 लाख से अधिक की येाजना- हितग्राही अंश 5%, राज्य निगम अंश 5%, राष्ट्रीय निगम अंश 90% तक
  3. शिक्षा ऋण येाजना - हितग्राही अंश 5%, राज्य निगम अंश 5%, राष्ट्रीय निगम अंश 90%

पात्रता:-

  1. आवेदक संबंधित जिले का मूल निवासी हो। (सक्षम अधिकारी द्वारा जारी मूल निवासी प्रमाण पत्र के साथ मतदाता पहचान पत्र, राशन कार्ड, आधार कार्ड, बैंकपास बुक या बिजली बिल)
  2. आवेदक संबंधित जाति वर्ग का हो। (सक्षम अधिकारी द्वारा जारी जाति प्रमाण पत्र)
  3. परिवार की वार्षिक आय ग्रामीण क्षेत्र में रू. 98,000/- एवं शहरी क्षेत्र में रू. 1,20,000/- से अधिक न हो। (सक्षम अधिकारी द्वारा जारी आय प्रमाण पत्र)
  4. वाहन हेतु/ वाहन योजना में आवेदक के नाम वैध कामर्शियल ड्रायविंग लायसेंस होना अनिवार्य है। ट्रेक्टर ट्राली का उपयोग केवल कृषि कार्य के लिये शपथ पत्र देने पर कामर्शियल ड्रायविंग लायसेंस आवश्यक नहीं मात्र ट्रेक्टर या एल.एम.व्ही. ड्रायविंग लायसेंस मान्य होगा।
  5. आवेदक की आयु 18 वर्ष से 50 वर्ष के अधिक न हो। (आयु/जन्मतिथि के प्रमाण हेतु स्कूल का जारी दाखिल-खारिज/5वीं, 8वीं, 10वीं की अंकसूची या कोई मूल दस्तावेज के साथ शपथ पत्र) शिक्षा ऋण में न्यूनतम आयु का बंधन नहीं है।
  6. ट्रेक्टर ट्राली योजना में आवेदक के नाम (स्वयं आवेदक के नाम 5 एकड़ या पैतृक कृषि भूमि में से प्रत्येक हिस्सेदारों के हिस्से में) 5-5 एकड़ कृषि भूमि होना अनिवार्य है।
  7. शासकीय योजना में पूर्व का ऋण बकाया न हो। (संबंधित विभाग/बैंक द्वारा प्रदत्त अनापत्ति प्रमाण पत्र या शपथ पत्र)

ब्याज दर:-

  1. आदिवासी महिला सशक्तिकरण योजना में ब्याज दर प्रति वर्ष 4% देय होगा।
  2. रू. 5,00,000/- तक की अन्य सभी योजनाओं में ब्याज दर 6% प्रति वर्ष देय होगा।
  3. रू. 5,00,000/- से अधिक की अन्य सभी योजनाओं में ब्याज दर 8% प्रति वर्ष देय होगा।

ऋण अदायगी:-

  1. हितग्राही/लाभार्थी को ऋण प्राप्त होने के एक माह पश्चात् ऋण मय ब्याज नियमित 60 किश्तों में अर्थात् 5 वर्ष की अवधि देय होगी।
  2. शिक्षा ऋण योजना में कोर्स पूर्ण होने के 6 माह बाद अथवा जॉब प्राप्त होने के बाद के 1 वर्ष के भीतर जो भी पहले हो किश्त अदायगी ऋण मय ब्याज नियमित 60 किश्तों में अर्थात् 5 वर्ष की अवधि देय होगी।
  3. हितग्राही/लाभार्थी को किश्त अदायगी ऋण प्रदत्त जिला समिति को दिये गये बैंक एकाउंट में जमा कर सकते हैं अथवा कार्यालय में नगद जमा कर रसीद प्राप्त कर सकते हैं।
  4. 100% नियमित किश्त समयावधि में जमा करने पर प्रात्साहन की दृष्टि से लाभार्थियों को उत्साहित करने हेतु प्रत्येक वित्तीय वर्ष के दौरान चुकाई गई मूलधन राशि के 1% राशि प्रोत्साहन के रूप में दी जावेगी।

आवश्यक दस्तावेज:-

  1. जाति प्रमाण पत्र।
  2. निवास प्रमाण पत्र।
  3. आय प्रमाण पत्र।
  4. बंधक विलेख, अनुबंध पत्र, गारंटी करार एवं शपथ पत्र।
  5. हितग्राही के आधार कार्ड एवं बैंक खाता की कॉपी।

चयन प्रक्रिया व चयन समिति:-

  1. आवेदक को ऋण हेतु निःशुल्क निर्धारित आवेदन पत्र जिले के जिला अंत्यावसायी सहकारी विकास समिति कार्यालय से प्राप्त कर आवश्यक दस्तावेज सहित जमा किया जाता है।
  2. तत्पश्चात् प्राप्त आवेदन को राज्य शासन द्वारा योजना क्रियान्वयन के लिए जिला स्तर पर गठित जिला स्तरीय चयन समिति द्वारा चयनित किया जाता है।
  3. चयन समिति में अध्यक्ष एवं सदस्य इस प्रकार हैं:-
    अध्यक्ष चयन समिति में उपस्थित मान. विधायक/सामाजिक कार्यकर्ता तथा
    सदस्य जिले के कलेक्टर, सहायक आयुक्त, क्षेत्रीय परिवहन अधिकारी, उप संचालक (कृषि), महाप्रबंधक उद्योग एवं कार्यपालन अधिकारी या केन्द्र प्रबंधक, जिला अं.स.वि.स./व्यवसायिक प्रशिक्षण केन्द्र है। इनके द्वारा पात्रता अनुसार प्राप्त आवेदन का परीक्षण कर निर्धारित लक्ष्य के अनुरूप हितग्राही चयन करती है।

चयन पश्चात ऋण वितरण हेतु महत्वपूर्ण दस्तावेजो के सूची

  1. वैध कामर्शियल ड्रायविंग लायसेंस (वाहन इकाई के लिये)
  2. 5 एकड़ कृषि भूमि हेतु बी-1, नक्शा-खसरा एवं फार्म C - ट्रैक्टर ट्राली हेतु
  3. प्रपत्र-एक (हितग्राही का ऋण विवरण)
  4. प्रपत्र-दो साम्यिक बंधक का प्रोफार्मा (50 रूपये के स्टाम्प पेपर) एवं साम्यिक बंधक का विवरण
  5. प्रपत्र-तीन बंधक विलेख (50 रूपये के स्टाम्प पेपर)
  6. प्रपत्र-चार अनुबंध पत्र (50 रूपये के स्टाम्प पेपर)
  7. प्रपत्र-पाँच गारंटी करार (50 रूपये के स्टाम्प पेपर जमानतदार के नाम) जमानती सम्पत्ति का बी-1, नक्शा-खसरा फार्म-सी एवं सर्च रिपोर्ट यदि जमानतदार कर्मचारी हैं तो उनके विभाग का एन.ओ.सी. एवं वेतन प्रमाण पत्र, जमानतदार का शपथ पत्र
  8. प्रपत्र-6 उधारकर्ता द्वारा साम्यिक बंधक निर्मित करने संबंधी ज्ञापन का फार्म (मौखिक अनुमति)
  9. प्रपत्र-7 अविच्छिन्नता पत्र (लेटर ऑफ कन्टीन्यूटी)
  10. प्रपत्र-8 नामजदगी का फार्म
  11. मांग वचन पत्र
  12. शपथ पत्र हितग्राही हेतु
  13. प्रदत्त सामग्री एवं लाभार्थी का बीमा कराना होगा।


सम्पर्क:-

राज्य स्तरीय कार्यालय- प्रबंध संचालक, छ.ग. राज्य अंत्यावसायी सहकारी वित्त एवं विकास निगम मर्या., बी-9 सेक्टर-5 देवेन्द्र नगर, रायपुर

जिले में:- जिला अंत्यावसायी सहकारी विकास समिति- संबंधित जिला- कोरिया, सरगुजा-अम्बिकापुर, सूरजपुर, बलरामपुर, जशपुर, रायगढ़, कोरबा, जांजगीर-चांपा, बिलासपुर, मुंगेली, कबीरधाम, राजनांदगांव, दुर्ग, बेमेतरा, बालोद, रायपुर, बलौदाबाजार, गरियाबंद, महासमुंद, धमतरी, उ.ब. कांकेर, बस्तर-जगदलपुर, कोण्डागांव, नारायणपुर, द.ब. दंतेवाड़ा, सुकमा, बीजापुर